अग्निपथ योजना से तकलीफ, तो न हों सेना में भर्ती - वीके सिंह


If there is trouble with the Agneepath scheme, then there should be no army recruitment - VK Singh.

अग्निपथ योजना के खिलाफ हो रहे हिंसक विरोध के बीच केंद्रीय मंत्री और सेना के पूर्व प्रमुख जनरल वी. के. सिंह ने रविवार को अपनी बात सामने रखते हुए प्रदर्शनकारियों को चेताया की यदि उन्हें सशस्त्र बलों में भर्ती के लिए बनाई गई नई नीतियां पसंद नहीं आई तो उन्हे सशस्त्र बल में भर्ती होने की जरूरत नहीं है और इसके लिए उन्हें कोई मजबूर नहीं कर रहा है। महाराष्ट्र के नागपुर में हुए एक कार्यक्रम के दौरान इतर सिंह ने पत्रकारों के सामने अपनी बात रखते हुए कहा कि भारतीय सेना किसी भी सैनिक को जबरदस्ती भर्ती होने के लिए मजबूर नहीं करता है और इच्छुक प्रतिनिधि अपनी मर्जी से सेना में भर्ती हो सकता है। कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी अग्निपथ योजना पर आपत्ति जताते हुए कटीले बयान दिए, जिसके बाद विपक्ष दल पर निशाना लगाते हुए सिंह ने कहा कि सबसे पुरानी पार्टी भी हमारे काम में गलतियां ढूंढ रही है और ऐसा इसलिए हो रहा है क्योंकि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने राहुल गांधी से पूछताछ की और वे लोग इसी बात से नाराज़ हैं। इल्जामों को बौछार करते हुए सिंह ने कांग्रेस पर युवाओं को गुमराह करने के साथ ही देश की शांति भंग करने की कोशिश का भी इल्जाम लगा दिया। कांग्रेस की नेता प्रियंका गांधी वाड्रा का कहना है की अग्निपथ योजना देश के युवाओं समेत सेना के लिए भी अच्छा नहीं है। सिंह का कहना है की ' अग्निपथ ' योजना के बारे में 1999 के युद्ध के बाद हुए कारगिल समिति गठन के वक्त ही विचार किया गया था। उन्होंने यह भी बताया की भारतीय युवाओं के लिए सैन्य प्रशिक्षण अनिवार्य कर दिया जाए, इस बात की मांग पिछले 30 से 40 सालों से की जा रही है। पहले कहा जाता था कि सैन्य प्रशिक्षण एनसीसी के जरिए किया जा सकता है, इस से पता चलता है सैन्य प्रशिक्षण की मांग तो हमेशा से थी। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए सिंह ने कहा कि सेना कोई दुकान या रोजगार योजना नहीं है, यहां कोई भी युवा देश की सेवा करने की नियत से अपनी मर्जी से भर्ती होता है। बता दें कि मंगलवार को इस योजना का ऐलान करते हुए सरकार ने बताया की 17 साल से 21 साल तक के युवाओं के लिए 4 सालों के लिए सशस्त्र बलों में भर्ती कर उनमें से 25 फीसदी युवाओं को सैनिक के तौर पर नौकरी पर रख लिया जाएगा। इस तरह सहस्त्र बलों में भर्ती होने वाले युवकों को ' अग्निवीर' कहा जायेगा। इस फैसले पर युवाओं ने जमकर प्रदर्शन किया जिसके बाद युवाओं की आयु सीमा को बढ़ाकर 23 साल कर दिया गया।

BharatiyaRecipes back to top image Add DM to Home Screen