गूगल का AI चैटबॉट LaMDA, इंसानों की तरह सोच सकता है


Google's AI chatbot can think like humans

गूगल ने अपनी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस डेवलपमेंट टीम के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर ब्लेक लेमोइन को निकाल दिया है। और ब्लेक लेमोइन पर आरोप है कि उन्होंने थर्ड पार्टी के साथ कंपनी के प्रोजेक्ट के बारे में कॉन्फिडेंशियल इन्फर्मेशन को शेयर किया है। ब्लेक लेमोइन ने गूगल के सर्वर के बारे में हैरान करने वाला दावा किया है। उन्होंने दावा किया है कि गूगल के सर्वर पर उनका सामना एक 'sentient' AI यानी संवेदनशील AI के साथ हुआ है। यह AI चैटबॉट एक इंसान की तरह ही सोच सकता है।ब्लेक ने जिस गूगल एआई के साथ बातचीत की, वह एक इंसान था।जिस AI को लेकर इतना बवाल मच रहा है उसका नाम LaMDA (Language Model for Dialouge Applications) है। इसका काम चैटबॉट बनाने के लिए किया जाता है, जो ह्यूमन यूजर्स के साथ बातचीत करते हैं।

BharatiyaRecipes back to top image Add DM to Home Screen