अग्निपथ के अग्निवीर


Agnivir of Agneepath

अग्निपथ और अग्निवीर उम्मीद है अभी तक आप सभी इन दोनों शब्दों से वाकिफ हो चुके होंगे चलिए फिर भी एक बार संक्षेप में आपको बताते हैं, अग्निपथ स्कीम 14 जून 2022 को तीनों सेनाओं थल सेना, जल सेना और वायुसेना के प्रमुखओं द्वारा घोषित किया गया है l इस योजना की चर्चा पिछले दो सालो से चल रही थी l जिसको को इस बार अंजाम दिया गया इसमें युवाओं को चार साल के लिए कार्यरत किया जायेगा और चार साल के बाद उन्हें सेवा निधि पैकेज देकर अलविदा कर दिया जायेगा l यही नहीं इसके साथ ही इन अग्निवीरो में से 25% योग्य वीरो को आगे कार्यरत रखा जायेगा l बाकियो को सेवा निधि पैकेज के साथ 11-12 लाख,स्किल सर्टिफिकेट और एजुकेशन डिग्रीयाँ भी उपलब्ध कराई जाएगी l इसके साथ ही रिटायर अग्निवीरों को कुछ जगहों पर 10% आरक्षण भी दिया जायेगा l सवाल अभी ये नहीं हैं कि क्या मिलेगा या क्या होगा? सवाल अभी ये है कि ऐसा करने की जरूरत क्यों आन पडी? सरकार का कहना है कि हर साल सुरक्षा बजट का एक बहुत बड़ा हिस्सा वेतन और पेंशन मे चला जाता है, इसी बोझ को कम करने के लिए सरकार ने ये योजना बनाई है l साथ ही साथ सरकार का कहना है कि सेना मे नवजवानों की जरूरत है जिनमे जोश हो जाज्बा हो l अब सवाल और युवाओं का आक्रोश यहाँ फूटता है कि जब सरकार को अपना वेतन और पेंशन का बोझ ही कम करना है तों उन विधायकों का पेंशन और भत्ता क्यों नहीं कम करते जिनको सारी सुख सुविधो के साथ पेंशन भी दिया जा रहा है l अगर कुछ विधायकों के वेतन देखेंगे तो वो लाखो मे है,जब की कायदे से विधायकों को 20 हज़ार ही वेतन तय है लेकिन सब महंगाई भत्ता को मिला कर उनका वेतन लाखों मे चला जाता है,फिर उन जवानों का वेतन और पेंशन ही क्यों कम करना जो अपनी जान जोखिम मे डाल के नौकरी करेंगे और भी चार साल के लिए l जब पेंशन स्कीम को हटाना है तों पूरी तरह से हटा दिया जाये l पिछले दो तीन दिन से जो उपद्रव सारे देश मे हो रहा है वो किसी से छिपा नहीं है l युवाओं ने गुस्से मे ना जाने कितनी सरकारी संपत्ति को तहस नहस कर दिया l कई गाड़ियां, ट्रैनो को आग के हवाले कर दिया है l इतना ही नहीं कितने लोग घायल भी हुए हैं और साथ ही साथ ना जाने कितने लोगों को मुसीबतों का सामना भी करना पड़ा हैl कुल मिलाकर 13 राज्यों में स्कीम को लेकर विद्रोह जारी है l अब दूसरा सवाल यह उठता है कि क्या ये युवा जिनको अपने आक्रोश पर काबू नहीं है, वह क्या सेना में भर्ती होने योग्य है??? जहां किसी भी सेना में धैर्य और अनुशासन की आवश्यकता पडती है तो क्या ये युवा सेना में अपना धैर्य और अनुशासन बना कर रह पाएंगे?? मैं एक जवान के परिवार के सदस्य होने के नाते बस ये बताना चाहती हूँ कि जैसे एक बैटरी मे प्लस माइनस होता है वैसे सारी चीज़ो मे भी प्लस माइनस होता है बस देखने का नज़रिए अपना अपना होता है l अगर हम इसे सही तरीके से देखे तों ये स्कीम उतनी भी बुरी नहीं है जितना कि इसको भयानक रूप दिया जा रहा है l बहुत सारे युवा है जो 24-25साल तक कहीं स्थाई नहीं हो पाते तो ये एक तरह से अच्छा मौका है, जिससे वो अपने स्किल को सुधार कर अच्छी नौकारियों के योग्य हो सकते है l10% आरक्षण की वजह अग्निवीरों को फर्स्ट परेफ़्रेन्स दिया जायेगा l अगर इन नौकरियों में नहीं आना तो सेवा निधि पैकेज की रकम से अपना एक छोटा स्टार्टअप कर सकते है l बाकी बात तो अपने नजरिये की है l आशा करते है कि सरकार अभी इसमें कुछ और बदलाव करें जिससे की हमारे युवाओं को सटिस्फैक्शन मिले सके कि ये स्कीम उनके भविष्य के लिए लाभदायक सिद्ध होगा और वो इस अग्निपथ के अग्निवीर बन सके क्योंकि अनंत देश की भाग दौड़ को युवाओं को ही संभालना है l

BharatiyaRecipes back to top image Add DM to Home Screen